मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


घर-परिवार बागबानी


ज्योतिष से वृक्ष और पौधों
का संबन्ध
(संकलित)


- सूर्य के लिये मदार या आक-
ग्रहों से मनुष्य और वनस्पति का गहरा संबंध हैं। ग्रहों की दशाओं में विशिष्ट वृक्षों का घर में होना सुख समृद्धि प्रदान करने वाला हो सकता है। संकट एवं रोग से मुक्ति के लिये भी ग्रहों से सम्बंधित पौधे आराम दिलाते हैं रोग आदि में तो आयुर्विज्ञान के साथ वनस्पति का गहरा सम्बंध है ही।

अलग अलग पौधों को अलग अलग ग्रहों के साथ सम्बंधित किया गया है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार ग्रहों को शांत करने और उनसे शुभता प्राप्त करने का सबसे उत्तम उपाय यज्ञ है। विद्वानों ने उन पौधों और वनस्पतियों की पहचान की थी जिनका प्रयोग हवन में किया जाना चाहिये। हवन के लिये हर वृक्ष की लकड़ी उपयुक्ति नहीं मानी गयी है। वायु पुराण के अनुसार चंदन, पलाश, आम, देवदार, बरगद, पीपल, अंजीर और चीड़, सागौन आदि की लकड़ियाँ हवन के लिये उत्तम मानी गयी हैं। इसी प्रकार सूर्य को मदार और बेल से जोड़ा गया है।
 

ज्योतिष के अनुसार जो गुण सूर्य में हैं वे ही मदार में हैं इसलिये सूर्य ग्रह से होने वाले किसी भी कष्ट को दूर करने के लिये मदार का प्रयोग किया जाना चाहिये। इस बात का ध्यान रखना चाहिये कि मदार का पौधा विषैला होता है और किसी भी दवा का प्रयोग बिना कुशल वैद्य के नहीं किया जाना चाहिये।

१ जनवरी २०१७

पृष्ठ- . २. ३. ४. ५. ६. ७. . . १०. ११. १२.

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।