मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


घर-परिवार बागबानी


बारह पौधे जो साल-भर फूलते हैं
(संकलित)


८- कनेर

कनेर का पौधा लगभग छह सात फुट ऊँचा हो सकता है। लेकिन इसकी ऊँचाई इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप इसे कैसा आकार देना चाहते हैं। मूल रूप में यह एक झाड़ी है जिसे आवश्यकतानुसार छायादार पेड़, स्क्रीन या हेज का आकार दिया जा सकता है। इसके पीले, लाल या गुलाबी फूल बहुत ही आकर्षक होते हैं। इसलिये सजावटी पौधे के रूप में भी इसे उगाते हैं। यह पौधा काफी कम देखभाल के साथ भी आसानी से बढ़ जाता है। जिन क्षेत्रों में पौधे को पशुओं से बचाना कठिन हो, वहाँ भी इस पौधे को सफलता से उगाया जा सकता है क्योंकि गाय, भैंस या बकरी इन्हें नहीं खाते। इनको बाजार से खरीदा जा सकता है। इसके अतिरिक्त इसे बीज और कटिंग से भी उगाया जा सकता है।

कनेर का पौधा मई से अक्टूबर तक गुच्छेदार फूलों से भरा रहता है। इसके लिये उसे छह से आठ घंटे की सीधी धूप की आवश्यकता होती है। वे दक्षिण या पश्चिम की दीवार से आने वाली गर्मी को भी सहन कर सकते हैं। आंशिक छाया को भी वे सह लेंगे, लेकिन ऐसी स्थिति मे तना पतला, और शाखाएँ कम घनी हो जाएँगी। नवंबर से अप्रैल तक इसमें कुछ कम फूल आते हैं। अधिक सर्दी में फूल बहुत कम हो जाते हैं। इन दों अगर बरसात हो जाए तो पानी भराव की स्थिति में उनके गिर जाने या सड़ जाने का डर रहता है। इस समय उनके सहारे के लिये कोई डंडा या पाइप लगा दें और आसपास भरा हुई पानी निकाल दें। सर्दियों में इसकी जड़ों के आसपास सूखे पत्तों की खाद देनी चाहिये और कटिंग नहीं करनी चाहिये। गहरी कटिंग और प्रूनिंग ये वसंत में सह सकते हैं।

कनेर के दूध में एक जहरीला पदार्थ होता है जिसे थोड़ी भी मात्रा में छू जाने पर जलन होती है। इसका बीज विषैला होता है अतः इसे बच्चों और पशुओं से दूर रखना चाहिये।

पृष्ठ- . . . . . . . . .

१ अगस्त २०२२

यह भी देखें-

bullet

घर के लिये उपयोगी वृक्ष और पौधे     

bullet

सरल और सफल बागबानी  

bullet

ग्रहों से वृक्ष और पौधों का संबन्ध

bullet

आयुर्वेद की दृष्टि से उपयोगी बारह पौधे

bullet

फूलों की टोकरियाँ या लटकने वाले गमले

bullet

बारह पौधे जो साल-भर फूलते हैं

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।