मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


घर-परिवार बागबानी


बारह पौधे जो साल-भर फूलते हैं
(संकलित)


४- गुड़हल

गुड़हल पूरे साल खिलने वाला बारहमासी फूल है। इसके पौधे पर सफेद, पीले, लाल और गुलाबी रंग के फूल लगते हैं। साल भर खिलने के कारण ज्यादातर घरों में यह बहुत पसंद किया जाता है। वसंत से बरसात तक इसमें खूब फूल आते हैं सर्दियों में फूलों की संख्या कुछ कम हो जाती है लेकिन फिर भी यह फूलता रहता है। गुड़हल देसी और हाइब्रिड दोनो प्रकार के होते हैं। देसी गुड़हल की देखभाल आसान है।

गुड़हल को गर्म मौसम पसंद है इसलिये जिन स्थानों पर बर्फ गिरने की संभावना हो या मौसम बहुत दिनों तक एक से पाँच डिग्री फारेनहाइट तक रहे वहाँ इनके मर जाना की संभावना रहती है। ऐसे समय में इन्हें ठंड से बचाना आवश्यक है। गुड़हल के पौधे को सीधी धूप पसंद है। अगर इन्हें हर रोज तीन घंटे से कम सीधी धूप मिलती है तो इनमें फूल आना कम हो जाते हैं। ऐसी जगह पर इन्हें न लगाएँ जहाँ सीधी धूप न हो। इन्हें काफी पानी तो चाहिये लेकिन पानी का भराव नहीं होना चाहिये क्योंकि इससे जड़ें सड़ सकती हैं। वसंत से बरसात के अंत तक इन्हें हर माह अच्छी तरह खाद देना चाहिये। एक ऐसी खाद का प्रयोग करें जिसमें आयरन और मैगनीशियम हों। यह पौधे की बढ़वार और फूलने में सहायक होती है। नाइट्रोजन इस समय नहीं देनी चाहिये क्योंकि पत्तियाँ ज्यादा और फूल कम होते हैं। अधिक फासफोरस न हो क्योंकि इससे पौधा मर सकता है। गोबर या वर्मी कम्पोस्ट इनके लिये अच्छी खाद है। इनका प्रयोग सुरक्षित भी है।

अगर एक से अधिक पौधे लगा रहे हैं तो एक पौधे से दूसरे पौधे की दूरी कम से कम ३ फुट होनी चाहिये। इन्हें लगाने का सबसे अच्छा समय वसंत का होता है लेकिन बरसात में भी इन्हें लगाया जा सकता है।

पृष्ठ- . . . . .  (अगले अंक में एक और पौधे के विषय में)

१ अप्रैल २०२२

यह भी देखें-

bullet

घर के लिये उपयोगी वृक्ष और पौधे     

bullet

सरल और सफल बागबानी  

bullet

ग्रहों से वृक्ष और पौधों का संबन्ध

bullet

आयुर्वेद की दृष्टि से उपयोगी बारह पौधे

bullet

फूलों की टोकरियाँ या लटकने वाले गमले

bullet

बारह पौधे जो साल-भर फूलते हैं

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।