मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


घर-परिवार जीवन शैली - स्वास्थ्य


अस्वास्थ्यकर भोजन
जिनकी ओर आकर्षित होना
स्वास्थ्य के लिये हानिकारक है

(संकलित)
 


१- माइक्रोवेव वाले पॉपकॉर्न-
हानिकारक तत्व: डायसेटाइल, परफ्लुओरूक्टेनोइक एसिड (पीएफओए) और ट्रांस-वसा

अगर आपको लगता है कि आप जो फिल्म देख रहे हैं वह भयानक है, तो आपने शायद अपने पॉपकॉर्न को बहुत करीब से नहीं देखा है। जब पॉपकॉर्न को एयर-पॉप किया जाता है, तो इस स्नैक में फाइबर और साबुत अनाज होते हैं जिन्हें हम पसंद करते हैं, लेकिन माइक्रोवेव करने योग्य किस्में पूरी तरह से अलग चीज़ हैं। जॉली टाइम और जिफी पॉप जैसे कई प्रमुख ब्रांडों में न केवल हृदय के लिये हानिकारक ट्रांस वसा होते हैं, बल्कि उनके बैग में पेरफ्लूरूक्टेनोइक एसिड (पीएफओए) भी होता है, जो टेफ्लॉन बर्तनों और पैन में पाया जाने वाला एक ही जहरीला सामान है। इसके अतिरिक्त मक्खन के स्वाद और सुगंध वाले खाद्य पदार्थ डायसेटाइल (डीए) से युक्त होते हैं, यह एक ऐसा रसायन है जो उन कोशिकाओं की परत को तोड़ने के लिए दोषी पाया गया है जो हमारे सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक मस्तिष्क की रक्षा करता है। तो जब भी आप माइक्रोवेव करने योग्य पॉपकार्न खरीदें तो इस बात का ध्यान रखें कि उसके थैले पर दी गई जानकारी स्वास्थ्य के अनुकूल है या नहीं। ऐसा माना जाता है कि क्विन पॉपकॉर्न एकमात्र माइक्रोवेव करने योग्य पॉपकॉर्न में से एक है जो रसायनों से मुक्त है और आपकी सेहत पर आक्रमण नहीं करेगा।

घर में पॉपकॉर्न बनाना सब तरह से स्वास्थ्य के लिये अच्छा है। इसके लिये अपने पसंदीदा पॉपिंग अनाज (चावल, गेहूँ या मक्के) को माइक्रोवेव, प्रेशर कुकर या पॉपकॉर्न की मशीन में बनाएँ। इसमें अपना मनपसंद तेल या मक्खन डालें। मक्खन के स्वाद या सुगंध वाला रिफाइंड न मिलाएँ। या फिर एक भड़भूजा ढूँढें और अपने सामने अनाज भुनवाएँ और घर में आकर उसमें स्वादिष्ट तत्व यानि घी, मक्खन, तेल और नमक मिलाएँ।

.

१ जनवरी २०२२

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।