मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


घर-परिवार जीवन शैली


२४ सुझाव जो जल्दी वजन कम करने में
सहायक हो सकते है

(संकलित)


११- नमकीन इकट्ठा न करें
कुछ परिवारों में यह नियम होता है कि महीने के राशन के साथ ही चिप्स, पाप्कार्न, नमकीन भुजिया आदि के पैकेट खरीद लिये जाते हैं। फिर एक बार पैकेट खुल गया तो उसे निश्चित समय के अंदर खत्म करना होता है। इस कारण उसे खा भी लिया जाता है। वजन घटाने की इच्छा है तो इस आदते को छोड़ दें। फ्रिज में ताजे गाजर, खीरे, टमाटर, अमरूद या सिंघाड़े रखें। भूख लगने पर इन्हें नमक डालकर खाएँ।

कुछ परिवारों में सप्ताह का एक दिन नमक पारे, मठरी या चिवड़ा बनाने के लिये निश्चित होता है जिसे सप्ताह भर थोड़ा थोड़ा खाया जाता है। मेहमानों के सामने रखने के लिये यह ठीक है लेकिन स्वस्थ रहने के लिये नहीं। मेहमानों के जाने पर इसे हटा दें, खत्म न करें। बेहतर होगा कि मेहमानों को भी ताजे मौसमी फल खिलाए जाएँ। चटपटे नमकीन जैसे सॉस या अचार भी घर में भरकर न रखें। हाँ ताजी हरी चटनी का प्रयोग कभी भी किया जा सकता है।

१२- सुबह का नाश्ता ३०० कैलोरी

सुबह का नाश्ता ढँग से किया जाय तो वजन घटाने बहुत मदद मिलती है। स्वास्थ्य वैज्ञानिकों का मानना है कि सुबह का नाश्ता ३०० कैलोरी का होना चाहिये, जिसमें प्रोटीन और अन्न का स्वस्थ संतुलन हो। होलमील ब्रेड में पीनेट बटर का एक सैंडविच और एक सेब आदर्श नाश्ता हो सकता है। भारतीय भोजन में हम एक पराठे के  स्थान पर दो रोटियों को सूखी सब्जी और दही के साथ लेकर अपने सुबह के नाश्ते को स्वस्थ बना सकते हैं।

मेथी के थेपले, इडली, दलिये की खिचड़ी, उत्तपम, मूँग की दाल या बेसन के चीले, रवा दोसे आदि कुछ अन्य भारतीय नाश्ते हैं जो शरीर को पौष्टिकता देते हैं और जिन्हें खाने के बाद जल्दी जल्दी भूख नहीं लगती इस कारण वजन नियंत्रित करने में सहयोग मिलता है। सुबह के नाश्ते में हरी सब्जियाँ और फल शामिल करना स्वास्थ्य वर्धक है।

१ जून २०१९

(अगले अंक में कुछ और सुझाव)                                                पृष्ठ- . . . . . .

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।