1
  पुरालेख तिथि-अनुसार पुरालेख विषयानुसार
           अभिव्यक्ति-समूह : फेसबुक पर

 हमारे लेखक // तुक कोश // शब्दकोश // पता-

लेखकों से
 

इस माह-

1
अनुभूति में-

दीपावली की जगमग में नहाई विविध विधाओं में विभिन्न रचनाकारों की अनेक रचनाएँ।

-- घर परिवार में

रसोईघर में- दीपावली के विशेष अवसर पर हमारी रसोई संपादक शुचि प्रस्तुत कर रही हैं- मिठाइयों और नमकीनों की एक अद्भुत संग्रह

स्वास्थ्य में- २४ आसान सुझाव जो जल्दी वजन घटाने में सहायक हो सकते हैं- १९- बाँस की चाय और २०- धैर्य, निरंतरता, विश्वास

बागबानी- तीन आसान बातें जो बागबानी को सफल, स्वस्थ और रोचक बनाने की दिशा में उपयोगी हो सकते हैं-  कुछ उपयोगी सुझाव- १०

कलम गही नहिं हाथ में- अभिव्यक्ति के उन्नीसवें जन्मदिन का अवसर और नवांकुर पुरस्कारों की घोषणा

- रचना व मनोरंजन में

क्या आप जानते हैं- इस माह (अक्तूबर) की विभिन्न तिथियों में) कितने गौरवशाली भारतीय नागरिकों ने जन्म लिया? ...विस्तार से

संग्रह और संकलन- में प्रस्तुत है- आचार्य संजीव वर्मा सलिल की कलम से जयप्रकाश श्रीवास्तव के नवगीत संग्रह- शब्द वर्तमान का परिचय। 

वर्ग पहेली- ३१८
गोपालकृष्ण-भट्ट-आकुल और
रश्मि-आशीष के सहयोग से


हास परिहास
में पाठकों द्वारा भेजे गए चुटकुले

साहित्य एवं संस्कृति के अंतर्गत- दीपावली विशेषांक में

समकालीन कहानियों में यूएसए से राम गुप्ता
की कहानी- चयन

नारायण दत्त एक जाने माने शिक्षाविद थे। विद्यालयों में उनका किसी न किसी रूप में जाना होता रहता था। जहाँ जाते लोग उनको हाथों-हाथ उठा कर रखते। इस बार वह एक छोटे से महाविद्यालय की अनुदान स्वीकृत के लिए गए। उनको यह जान कर थोड़ा रोष हुआ कि उनकी सुख सुविधा के लिए केवल एक विद्यार्थी को भार सौंपा गया था। वह प्रोफ़ेसरों और विद्यार्थियों को आगे पीछे देखने के आदी थे। दूसरे दिन उगते ही उषा की लाली की ही भाँति एक कृषकाया ने अपना परिचय दिया, ''सर मैं शची हूँ, आपको कॉलेज ले चलूँगी।'' इसके बाद उसने जिस सहजता और कुशलता से उनके खानपान ठहरने से ले कर कॉलेज के कार्यक्रम को सँभाला उससे उनका सारा रोष जाता रहा। तीन दिनों में ही जब तक नारायण दत्त वहाँ रहे, एक तरह से उस पर आधारित हो गए। दीनहीन परिवार की वह लड़की रूप, गुण, आचरण से संपन्न थी। दिन पर दिन प्रबल होती आशा के वशीभूत नारायण दत्त में शची को अपने बेटे चंदन की बहू बनाने की लालसा पनप उठी।  
आगे...
*

के.पी.सक्सेना का व्यंग्य
दगे पटाखों की महक
*

मृदुला सिन्हा का साहित्यक निबंध-
कार्तिक हे सखि पुण्य महीना
*

प्रमिला कटरपंच से
पर्व-परिचय- लोक-पर्व साँझी
*

चंद्र शेखर का आलेख
सत्य का दीया तप का तेल

पुराने अंकों-से---

पर्यटन में
जैसलमेर के विषय में विशेष लेख
सोने के शहर में रेत के सपने

*

हास्य व्यंग्य में
काका हाथरसी का व्यंग्य
प्यार किया तो मरना क्या

*

घर परिवार में
नन्हें बच्चों से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न
जब बिस्तर खिलौनों से भर जाए  
*

साहित्य संगम में
गुलाबदास ब्रोकर की गुजराती कहानी- आखिरी झूठ
रूपांतरकार हैं प्रमिला राजे

कितनी सुंदर है वह बात करने का मौका मिल जाए तो मज़ा आ जाए। नरेश घिया ने अपने आप से कहा। और बात करने के इरादे से उसने अपनी ओर बढ़ती हुई लड़की की तरफ मुसकरा कर देखा। उसके चेहरे पर भी मुस्कुराहट थी। वह कह रही थी "मैं आपके पास आ ही रही थी।" "सचमुच मुझे बहुत खुशी हुई मिस "नंदिता मेहता।" उसने वाक्य पूरा किया। ''कल की गोष्ठी में मुझे आप का व्याख्यान बहुत पसंद आया,'' फिर अचानक वह आत्मविभोर हो कर बोली --''मुझे इतना पसंद आया कि मैंने सोचा अगर मैं खुद आकर आपका अभिनंदन नहीं करती हूँ, तो अपनी नज़रों में ही गिर जाऊँगी।''
नरेश ज़रा झुककर बोला,''थैंक्यू थैंक्यू थैंक्यू, मिस।''
''नंदिता, नंदिता मेहता नहीं मिस्टर घिया।''
''पर आपने गलती की न, मिस नंदिता।''
''मैंने गलती की? कौन-सी?
''मेरा नाम मिस्टर घिया नहीं, नरेश है।''
''ओह, सॉरी, हाँ मैं अपनी खुशी ही आपके सामने व्यक्त करना चाहती थी।'' ... आगे-

आज सिरहाने उपन्यास उपहार कहानियाँ कला दीर्घा कविताएँ गौरवगाथा पुराने अंक नगरनामा रचना प्रसंग घर–परिवार दो पल नाटक
परिक्रमा पर्व–परिचय प्रकृति पर्यटन प्रेरक प्रसंग प्रौद्योगिकी फुलवारी रसोई लेखक विज्ञान वार्ता विशेषांक हिंदी लिंक साहित्य संगम संस्मरण
चुटकुलेडाक-टिकट संग्रहअंतरजाल पर लेखन साहित्य समाचार साहित्यिक निबंध स्वाद और स्वास्थ्य हास्य व्यंग्यडाउनलोड परिसररेडियो सबरंग

© सर्वाधिकार सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है
यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को प्रकाशित होती है।


प्रकाशन : प्रवीण सक्सेना -|- परियोजना निदेशन : अश्विन गांधी
संपादन, कलाशिल्प एवं परिवर्धन : पूर्णिमा वर्मन

 
सहयोग : कल्पना रामानी
 

Loading