मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


हास परिहास
(पाठकों द्वारा भेजे गए चुटकुलों पर आधारित)

एक बार एक अखबार में साप्ताहिक भविष्यफल कुछ इस तरह छपा-
पहले हफ़्ते:  बहुत प्रगति होगी, सफलता आपके कदम चूमेगी, हर तरफ आपका नाम होगा, खुशियों से घर भर जाएगा, मान सम्मान बढ़ेगा
दूसरे हफ़्ते:  थोड़ी बाधाएँ हैं मगर घबराएँ नहीं, समय आपके साथ है, जीत आपकी ही होगी शत्रु का नाश होगा।
तीसरे हफ़्ते: कुछ लोग हैं जो आपकी प्रगति से जल रहे हैं रोड़े अटका रहे हैं मगर वो हारेंगे आप जीतेंगे।
चौथे हफ़्ते:  हमारी सलाह है ज़रा सँभल कर रहें ऎसा लग रहा है पिछले दो तीन हफ़्तों से कोई आपको बेवकूफ बना रहा है।
 
१५ मार्च २०१७
हरियाणे का ताऊ होटल गया।
वेटर ने पूछा- ताऊ, क्या खाओगे?
ताऊ बोला- भाई, मेज कुर्सी हटा ले, कलाबाज़ी खाऊँगा... रुपये ते मोदी ने खोंस लिये।
१ मार्च २०१७
एक व्यक्ति बस में यात्रा कर रहा था। समय काटने के लिये उसने पास बैठे एक और यात्री से बातचीत शुरू कर दी।
"आपकी दाढ़ी बहुत अच्छी बनी है।"
"जी धन्यवाद।"
"लगता है आज ही बनाई।"
"जी... जी...।"
"सप्ताह में कितनी बार दाढ़ी बनाते हैं?"
"सप्ताह में? मैं तो दिन में तीस चालीस बार दाढ़ी बनाता हूँ।"
"अरे पागल हो क्या?"
"नहीं मैं नाई हूँ।" ---------------------------------------------------------------
१५ फरवरी २०१७
मोदी- एक समोसा देना।
समोसेवाला- चटनी कौन सी? लाल या हरी?
मोदी- लाल, हरी चटनी मत डालना।
मीडिया- मोदी ने "हरी" चटनी को मना क्यों किया, क्या यही सेकुलरिज्म है..?
कांग्रेस- ये समोसे का अपमान है, इस्तीफ़ा इस्तीफ़ा..!!
दिग्विजय सिंह - मैं तो बचपन में दूध की जगह हरी चटनी पिया करता था।
केजरीवाल- आप पार्टी इसका विरोध करेगी, सारे आपिये कल १-१ किलो हरी चटनी पी कर धरना देंगे।
ओवैसी- ये भगवाकरण हम नहीं सहेंगे।
मायावती- मोदी जी ने दलित के हाथ की हरी चटनी नहीं ली। ये दलितों का अपमान है..
नीतीश- मैं तो पहले ही कहता था की मोदी को खून पसंद है। लाल रंग की चटनी लेने से ये सिद्ध हो गया।
आमिर खान- ये देश हरी चटनी खाने लायक नहीं है, मैं देश छोड़ना चाहता हूँ।
अनुपम खेर- आमिर खान उस देश चले जायें जहाँ सिर्फ हरी चटनी मिलती हो।
समोसे वाला- ये बाहर इतना शोर कैसा हो रहा है?
मोदी- छोड़ ना, रोज़ का ड्रामा है इनका, एक समोसा और दे, लाल चटनी ज्यादा डालना...!!
१ फरवरी २०१७

एक बार एक भारतीय हाथी की दोस्ती एक अफ्रीकी चींटी से हो गई। चींटी ने हाथी से पूछा- भैया तुम्हारी उम्र क्या है?
हाथी ने कहा - चार साल।
चीटी ने आश्चर्य से कहा- चार साल, और इतने ऊँचे ?
हाथी ने उत्तर दिया- अमूल दूध पीता है इंडिया।
फिर हाथी ने चीटी से पूछा- चीटी बहन, तुम्हारी उम्र क्या है?
चीटी बोली- सात साल।
हाथी ने आश्चर्य से पूछा- तब भी तुम इतनी छोटी?
चीटी बोली- मेरी खूबसूरत त्वचा से मेरी उम्र का पता ही नहीं
चलता।

१५ जनवरी २०१७

एक टी.वी. पत्रकार एक किसान का इंटरव्यू ले रहा था...
पत्रकार : आप बकरे को क्या खिलाते हैं?
किसान : काले को या सफ़ेद को?
पत्रकार : सफ़ेद को।
किसान : घास।
पत्रकार : और काले को?
किसान : उसे भी घास।
पत्रकार : आप इन बकरों को बाँधते कहाँ हैं?
किसान : काले को या सफ़ेद को?
पत्रकार : सफ़ेद को।
किसान : बाहर के कमरे में।
पत्रकार : और काले को?
किसान : उसे भी बाहर के कमरे में।
पत्रकार : और इन्हें नहलाते कैसे हो?
किसान : किसे काले को या सफ़ेद को?
पत्रकार : काले को।
किसान : जी पानी से।
पत्रकार : और सफ़ेद को?
किसान : जी उसे भी पानी से।
पत्रकार का गुस्सा सातवें आसमान पर, बोला : अरे ! जब दोनों के साथ सब कुछ एक जैसा करता है, तो मुझसे बार-बार क्यों पूछता है काला या सफ़ेद?
किसान : क्योंकि काला बकरा मेरा है।
पत्रकार : और सफ़ेद बकरा?
किसान : वो भी मेरा है।
पत्रकार बेहोश...
होश आने पे किसान बोला अब पता चला !!! जब तुम एक ही समाचार को सारा दिन घुमा फिरा के दिखाते हो तो जनता को कैसा लगता है।

१ जनवरी २०१७

२०१७ के चुटकुले

1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।