मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


हास परिहास
२०२०

तरबूज वाले ने बड़ी बारीकी से इंच दर इंच तरबूज ठोक-ठोक कर दिया।
अपुन से रहा नहीं गया पूछ डाला -
"कमाल है भाई, तुम तो तरबूज ऐसे जाँच रहे हो जैसे कि सर्जन लोग मरीज की जाँच करते हैं!
तरबूज वाला बोला- "भाई, अब रुलाएगा क्या ? मैं सर्जन ही हूँ, कोरोना के कारण सर्जरी बंद है तो ये धंधा कर रहा हूँ!"
१ जून २०२०
एक कन्या गोलगप्पे वाले से- भैय्या, आज कल आपके गोल गप्पों में वो पहले वाली बात नहीं रही। मजा नहीं आ रहा, कुछ तो मिसिंग है। मसाला बदल दिया क्या?
गोलगप्पे वाला- नहीं मैडम, बस वो कोरोना के चक्कर में हाथ अच्छे से धोकर खिला रहे हैं ना...
१ मई २०२०
आज सुबह टीवी पर बता रहे थे कि .. बाहर जाते समय मास्क और हैंड ग्लव्स पहनकर जाना चाहिए...
गुप्ता जी ने ऐसा ही किया।
लेकिन जब बाहर गये तो देखा कि लोग मास्क और ग्लव्स के साथ साथ पैंट शर्ट भी पहने हुए थे।
बहुत नाराज हैं, कह रहे हैं कि झूठे हैं टीवी वाले... अब कभी भरोसा नहीं करूँगा।
१ अप्रैल २०२०
पत्नी ने गुस्से से पति को फोन किया- बोली कहाँ हो?
पति- अरे उसी ज्वेलरी शॉप के पास जहाँ तुमने हार पसंद किया था। पिछली होली को याद आई वो दूकान?
"हां याद है...
"माफ करना मैं उस समय तुम्हें दिला नहीं सका था पर मैंने वायदा किया था कि किसी दिन जरुर दिलाऊँगा।"
ये सुन पत्नी खुशी से बोली हाँ जी याद है। आप कितने अच्छे हैं मेरे लिए हार अभी खरीद रहे हैं! बताइए आज क्या बना दूँ आप के लिए!
पति- अरे भाग्यवान मेरी बात सुनो, मैं उसी गली से तुम्हारे लिए गोलगप्पे खरीद रहा हूँ, कितने ले लूँ तुम्हारे लिये... और तुम आज मटर पनीर बना लेना।
१ मार्च २०२०
तेज रफ्तार से गाड़ी चला रही युवती को रोककर चालान काटते हुए ट्रैफिक पुलिस ने कहा, "आपने पढ़ा नहीं कि इस जगह चालीस के ऊपर गाड़ी चलाना मना है?"
लेकिन मैं तो अभी २३ की हूँ लड़की ने उत्तर दिया।
१ फरवरी २०२०
"यार मैं एक लड़के से बहुत परेशान था लेकिन आज वह मेरी वजह से दहशत में है।"
"अच्‍छा, ऐसा क्‍या हो गया?"
"मैं जब भी ऑफिस में कम्‍प्‍यूटर पर बैठता था, वह मेरे पीछे खड़ा हो जाता था। आज जैसे ही वह आया, मैंने गूगल पर सर्च किया, 'अपने पीछे खड़े लड़के की हत्या कैसे करें?  ----------------------------
---------------------
१ जनवरी २०२०
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।