मुखपृष्ठ

पुरालेख-तिथि-अनुसार -पुरालेख-विषयानुसार -हिंदी-लिंक -हमारे-लेखक -लेखकों से


हास परिहास
२०२२

जूते की दूकान में एक महिला खरीदार ने प्रवेश किया और तमाम चप्पलें खुलवाकर देखीं, लेकिन उसे कोई भी पसंद नहीं आई। दुकानदार इस बात से बहुत ही परेशान था। थककर उसने कहा- "मैंने आपको दूकान की एक एक चप्पल दिखा दी, अब तो एक भी बाकी नहीं है।"
महिला- "वो सामने वाले डिब्बे में क्या है?"
दुकानदार- "बहन रहम कर थोड़ा, उसमें मेरा लंच है।"

१ जून २०२२

क्रिकेट की शृंखला अपने पूरे जोश में जारी थी। टीवी पूरी आवाज में चल रहा था। जूस और पॉपकार्न लेकर परिवार टीवी के सामने जमा हुई था। इसी समय-
अन्नू ने पन्नू से पूछा- क्या लगता है, कौन जीतेगा रूस या यूक्रेन?
पन्नू - पहले यह बताओ कि बैटिंग कौन कर रहा है।

१ मई २०२२

मैं सरकारी अस्पताल में अपने टेस्ट करवाने गया-फुरसत मिलने पर उधर मौजूद कैंन्टीन से पोहा और जलेबी खरीदी और मज़े से वहीं खड़े-खड़े खाना-पीना शुरू कर दिया- ऐन उसी वक़्त मेरी नज़र कुर्सी पर बैठे एक छोटे बच्चे पर पड़ी जो बड़ी हसरत से मुझे ही देख रहा था, मैंने इंसानी हमदर्दी में जल्दी से उस बच्चे के लिए भी पोहा और जलेबी खरीदी जो बच्चे ने बिना ना किये ले लिये और जल्दी-जल्दी खाने लगा। बेचारा पता नहीं कब से भूखा होगा- ये सोचकर मैंने ऊपर वाले का शुक्र अदा किया जिसने मुझे एक भूखे को खाना खिलाने का मौका दिया। इतनी देर में उस बच्चे की मां, जो उसकी पर्ची बनवाने के लिए खिड़की पर खड़ी थी, वापस आई और बच्चे को जलेबी का आखिरी टुकड़ा खाते देखा!!!

फिर अचानक पता नहीं उसे क्या हुआ कि वो दोनों हाथ उठा कर, जोर-जोर से चिल्लाने लगी जिसने उसके बच्चे को ये चीज़ें दी उसे गालियां देने लगी। कह तो वो बहुत कुछ रही थी, मगर मैंने वहां से फरार होते हुए जो चंद बातें सुनीं वो ये थीं:- कौन है वो "कमीना" जिसने मेरे बच्चे को पोहा खिला दिया, मैं २५ किलोमीटर दूर से किराया लगा कर उसके खाली पेट टेस्ट करवाने लाई थी...।

१ अप्रैल २०२२

पत्नी ने गुस्से से पति को फोन किया, पूछा कहाँ हो?
पति- अरे उसी सर्राफे की दूकान के पास, जहाँ तुमने पिछली होली को हार पसंद किया था। याद आई वो दूकान?"
"हाँ हाँ याद है।"
"माफ करना, मैं उस समय तुम्हें हार दिला नहीं सका था। मैंने वायदा किया था कि किसी दिन जरुर दिलाऊँगा।"
"ओह आपको याद है वह वायदा। आप कितने अच्छे हैं, मेरे लिए हार अभी खरीद रहे हैं। बताइए आज क्या बना दूँ आपके लिये।"
"अरे भग्यवान, मेरी बात सुनो मैं उसी गली से तुम्हारे लिए गोलगप्पे खरीद रहा हूँ, कितने ले लूँ तुम्हारे लिये।"

१ मार्च २०२२

पत्नी आई.सी.यू में थी। पति का रो-रोकर बुरा हाल था।
डॉक्टर बोला, "हम पूरी कोशिश कर रहे हैं, पर वे कुछ बोल ही नहीं रही हैं शायद कोमा में हैं। अब तो सब कुछ भगवान के हाथ में है।"
पति बोल उठा- ‘सिर्फ चालीस की ही तो है अभी...’
तभी पत्नी के होंठ हिले और आवाज आई- बत्तीस की।
- शशि पुरवार

१ फरवरी २०२२

एक फेसबुक समूह में नववर्ष के अवसर पर यह संदेश पाया गया-
हमारे समूह में कोई व्यक्ति है जो छह लोगों के लिए हेलीकॉप्टर की सवारी करना चाहता है? हम अभी भी अपने साथ जुड़ने के लिए दो और लोगों की तलाश कर रहे हैं। हम दिल्ली हवाई अड्डे से ३१ दिसंबर को सुबह छह बजे निकलेंगे, ऋषिकेश पहुँचकर नाश्ता करेंगे, फिर केम्प्टीफॉल कैंप में दोपहर का भोजन करेंगे, शाम को ३१ की रात पार्टी का आनंद लेने के लिए एक रिज़ॉर्ट में ठहरेंगे और १ जनवरी को यात्रा समाप्त करने के लिए वापस सफदरजंग हवाई अड्डे के लिए उड़ान भरेंगे। अगर दिलचस्पी है, तो कृपया जल्द से जल्द संदेश भेजें!
नोट- दोनो बंदों में से किसी एक के पास हैलीकॉप्टर होना चाहिये अन्यथा यह उड़ान निरस्त।

१ जनवरी २०२२
1

1
मुखपृष्ठ पुरालेख तिथि अनुसार । पुरालेख विषयानुसार । अपनी प्रतिक्रिया  लिखें / पढ़े
1
1

© सर्वाधिका सुरक्षित
"अभिव्यक्ति" व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक
सोमवार को परिवर्धित होती है।